स्वर मिला स्वर में तुम्हारे





रीतियाँ के अनुसरण में मंदिरो में सर झुकाया
यज्ञ कर कर देवता को आहुति हर दिन चढ़ाई
आर्चना के मंत्रस्वर में  साथ भी देते रहा मैं
पर समूची साधना भी साथ पलभर को न। आइ

मैं व्यथा की इस कथा को भूल  जाना चाहता हूँ
स्वर मिला स्वर में तुम्हारे गीत गाना चाहता हूँ

भोर की अँगड़ाइयों में पाखियों ने गीत गाए
साथ उनकी सरगमों का हर सुबह मैंने निभाया
मैं रहा वंचित सदा हर एक  युग की करवटों पर
कॄष्ण का इतिहास पूरा व्यास के सुर में सुनाया

वाल्मीकी के रचे श्लोक में गुन्जित हुआ में
स्वर मिला स्वर में तुम्हारे अर्थ पाना चाहता हूँ

घाट पर वाराणसी के घुल गया तुलसी स्वरों में
इक कथानक छंद में चौपाई में मैंने सुनाया
सूर के स्वर में मिला इक तार के आरोंह चढ़कर
फिर उतर अवरोह में मैंने निरंतर गीत गाया

एक पल के भी लिए  पर तुष्टि के क्षण मिल न पाए
स्वर मिला स्वर  में  तुम्हारे तृप्ति पाना चाहता हूँ

स्वर मिलाया था कभी दावानलो के तीक्षण स्वर से
और इक हुंकार से दिनकर अधर से  जो उठी  थी
तो कभी स्वर को मिलाया पार्थ सारथि के स्वरों से
सहज ही जिनसे प्रवाहित एक दिन गीता हुई थी

आज सब कुछ छोड़ पीछे, मौन की चादर लपेटे
स्वर मिला निस्तब्धता में मौन रहना चाहता हूँ

बूँद भर जल

बूँद भर जल बन गया आशीष, तेरा स्पर्श पाकर
चल दिया मैं आचमन कर तेरी स्तुतियाँ की डगर पर

मैं अजाना था कहाँ पर शब्द की जागीर फैली
और स्वर की सरग़मों की वीथियों की क्या दिशाये
दूर तक कोई नहीं था जो मुझे  निर्देश  देता
किस तरह से शब्द चुन कर राग में उनको सजायें

बूँद भर जल बन गया शतदल कमल के पत्र से झर
एक वह पथ का प्रदर्शक जो दिशा करता उजागर

स्वाति के नक्षत्र की इक बूँद का जल बन गया था
भिन्न गुण वाला परिस्थिति साथ जैसी मिल गई थी
उड़ गया कार्पूर बन कर याकि मोती बन गया था
हो गया विष जब कि संगत शेषनागी  हो गई थी

किंतु तेरी वीण के इक तार की झंकार छू कर
ज्ञान का भंडार होकर छा गया पूरे जगत पर

बूँद भर जल मेघगृह में जा हुआ है शत सहस्त्रित
और फिर बरखा बना है भूमि की तृष्णा बुझाने
ईश का वरदान बन कर जब सज़ा नत भाल पर तो
कालिदासों के मुखों से लग गया कविता बहाने


बूँद भर जल बह शिरा में ज़िंदगी को प्राण देता 
और संभव कर रहा हम गीत गायें गुनगुनाकर 

कल जहाँ से लौट कर

 कल जहाँ से लौट कर हम आ गए सब कुछ भुला कर
आज फिर से याद की वे पुस्तकें खुलने लगी हैं 

फिर लगी है तैरने इस साँझ में धुन बाँसुरी की 
भग्न मंदिर में जला कर रख गया है दीप कोई 
पनघटोंकी राह पर झंकारती है पैंजनी फिर 
पीपलों की छाँह में फिर जागती चौपाल सोई

कल जहाँ से लौट कर हम आ गए, सूनी  कुटी वह
गूँजते शहनाई स्वर के साथ फिर सजने लगी है 

भोर में नदिय किनारे सूर्य वंदन आज फिर से 
और फिर तैरे प्रभाती गीत कुछ बहती हवा में 
गुरुकुलों का शंखवादन जो अपरिचित हो गया था 
खींचता नूतन सिरे से चंचलता मन आस्था में 

कल जहाँ पर बह रही थी रात दिन पछुआ निरंतर 
आज फिर पूरबाइ की मद्दम गति बहने लगी है 

कल जहाँ से लौट आए गीत लेकर के निराशा 
मंच पर बैठे विदूषक, हाथ में कासा सम्भाले
आज फिर से छा रही हैं संस्कृतियाँ मेघदूती 
काव्य में में आने लगे, साकेत दिनकर के हवाले 

कल जहाँ पर राग -सरगम मुँह ढक कर सो गए थे
आज रंगीनियाँ वही पर निशिदिवस बजने लगी है  

एक उजली शाम के भटकाव में

खो चुके पहचान हम अपनी यहाँ
एक उजली शाम के भटकाव में
ढूँढते कुछ पल मिलें अपने कहीं
व्यस्तताओं के बढ़े सैलाब में

भोर ने प्राची रंगी हर रोज ही 
हम घिरे इक दायरे में रह गए
जो दिवस ने ला थमाए थे प्रहर
हाथ से फिसले कही पर बह गए 
आँख में आकर निशा थी आँजती
इक सुनहरे स्वप्न की परछाइयाँ 
किंतु चढ़ते रात की कुछ सीढिया
वे सभी टूटे बिखर कर ढह गए 

जानते थे मरूथली आभास है 
किंतु तृष्णा के रहे बहकाव में 

हर दिशा में राह स्वागत में बिछी
मंज़िलो तक साथ जाने के लिए
और निश्चय था प्रतीक्षज में खड़ा 
जो ग़हें हम ध्येय पाने के लिय
राज पर हमने चुनी विपरीत हो
दाक्षयरे में एक थी चलती रही
इसलिए ही आस की का पियाँ सभी
बिन खिले ही सूख कर झरती रहीं 

और हम बस सूत्र इक थे खोजते 
चाहना के इस घने बिखराव में  

तितलियों के पंख की परछाइयाँ
पंखरी  पर ओस सी गिरती रहीं
गंध की उमड़ी हुई कुछ बदलियन
सामने आ ताक पर अटकी रही 
पर हमारी दृष्टि के आकाश का 
मरुथली भ्रमजाल ही सीमांत था
ध्यान उस पर दे नहीं पाए  कभी
जो सहज उपलब्ध अपने पास था 

पांडुलिपियां रह  गई थी अनखुली 
अर्थ बस ढूँढा किए अनुवाद में 

सब अधूरे ही रहे  ईजिल  टंगे 
कैनवस पर चित्र जितने भी बने
चाह जिनकी थी, दिखा पाए नहीं 
जो लगे दीवार पर थे आईने
हम स्वयं दोषी हमें मालूम था 
किन्तु साहस था नहीं, स्वीकारते
चाह थी हर बार चूमे जयश्री 
इसलिए ही रह गए हम हारते 

चाहना थी गुम्बदों पर जा चढ़ें 
और बस अटके रहे मेहराब में 

 

दृष्टि में हर शाम

दृष्टि में हर शाम उभरी एक ही छवि वह मनोहर
एक दिन जो मोड़ पर वयसंधि के सहसा मिली  थी 

गा उठी थी कोकिले तब पतझरी अमराइयों में
और मन की क्यारियों में फूल अनगिनती खिले थे
रह रहे थे दृश्य जो छाए धुँधलके में लिपट कर
चीर  कर सारा कुहासा सामने खुल कर मिले थे

याद उस पल की बनी है शिल्प मन की वीथियों में
जब कुमुदिनी ले क़ेतकी को बिन ऋतु के ही खिली थी 

कर चुकी है उम्र कितनी दूरियाँ तय इस सफ़र में 
परिचयों की सूचियों में नाम कितने जुड़ गए हैं
दृष्टि में हर शाम आता सामने वह नाम केवल
पृष्ठ मन की पुस्तकों के एक जिस पर मुड़ गए हैं 

लौट कर जाता निरंतर  मन समुद्री पंछियों सा 
उस जगह पर याक ब यक मंजुल मिली thi

दृष्टि में हर शाम खुलते पट उन्ही वातायनों के
पार जिनके पुष्पधनवा के शैरन के रंग बिखरे
रंग गई थी ओढ़ जिनको वादियों की सब दिशाएँ
और नव शृंगार के पल थे जहाँ पर झूम सँवरे

गगन घिर आता क्षितिज तक राजहँसों के परों से 
ताजमहली शिल्प की परछाइयाँ  जैसे मिली थीं 

इस उजड़ते हुये गाँव से


आज इक और राही निकल कर चला उम्र के इस उजड़ते हुये गाँव से 
हो चले चिह्न सारे बनेधूमिली कल तलक जिनको छोड़ा हुआ पाँव ने 


जो चुनी उसने राहेंगई शून्य को कोई भी लौट कर के नहीं आ सका 
है ये उद्गम या फिर अंत हैराह का कोई इसका पता भी नहीं पा सका 
जाते जाते समेटे हैं जो फूल वे हैं लपेटे हुए ग़म कि या फिर ख़ुशी 
हर कोई घिर के असमंजसों में रहा सत्य क्या है समझ में नहीं आ सका 


इस सफ़र में बिछी चौसरे हर तरफ़हार निश्चित सदा ही लगे दाँव पे 
और घाटा ही घाटा ही हासिल रहा उम्र के इस उजड़ते हुए गाँव से 


हर दिवस ने सजाया था पाथेय नव,इंद्रधनुषी सपन आँख में आँजते
साँझ के नीड़ से पूर्व ही था चुका हर क़दम पर गिरा कोष से भागते 
हाथ में एक कासा थमा माँगता था अपेक्षायें हर इक खुले द्वार से 
और धागों में आशा पिरोए हुए रोज दरगाह में जा उन्हें टाँगते

सूर्य की तपतपी  साथ में ही रही कितना बैठे था जा पेड़ की छांव में 
किन्तु विश्रान्ति के पल नहीं मिल सके, उम्र के इस उजडते हुये गाँव में

छोड़ जाते रहे लोग इस गाँव से और बढ़ती रही पीर दिल में घनी 
हाथ के पाँव के बढ़ते शैथिल्य से निश्चयों की  हुई और कुछ तनतनी
मध्य में द्रश्य के और बीनाई के अवणिकाएँ नई नित्य गिरने लगी 
और अपनातव की गंध वाले क्षणों से  बढ़ गई और ज़्यादा हुई दुश्मनी

चल दिया जो निकल, वो न राही रुका, कोई ज़ंजीर बाँध न सकी पाँव से 
छोड़ जाते रहे एक के बाद इक उम्र के इस उजड़ने हुए गाँव से 

शब्द के गजरे बनाकर


  सुनयने फूल गूँथे वेणियो में सज रही तुम
आओ मैं कुन्तल सँवारूँ शब्द के गजरे बनाकर

आज तक तुमने संवारे पुष्प लेकर चिकुर अपने 
मोतिया, बेला, चमेली और हरश्रृंगार चुन कर 
मैं पिरो दूँ  गंध के गुलदान से चुन कल्पना  के 
खुल  रहे आयाम नूतन डोरियों में आज ​बट कर 

संदली शाखायें झूमें नृत्य में तब छमछमाकर 
आज मैं कुंतल संवारूँ शब्द के गजरे बना कर 

पारिजाती हो हवाए रंग ले कचनार वाले
बन ​अलक्तक  रक्त वर्णी पाँव रचती हैं तुम्हारे 
अर्ध विकसित बूटियाँ अंगदाइयाँ लेते , हिना की 
मुस्कुराती हैं अरुण रंग हो ,​​​​ हथेली में तुम्हारे 

मैं रखूँ ला हस्त-पग में , रक्त शतदल  पत्र लाकर
आओ मैं कुन्तल सँवारूँ शब्द के  गजरे  बनाकर 

​ओ  सुमुखि है फूल की तो उम्र केवल एक दिन की 
और बिखरी कुछ दिनों ही रूप की भी ज्योत्सनाए 
शब्द के शृंगार शाश्वत हो, रहे हर एक युग में
ये बताती आइँ हमको ग्रंथ में वर्णित  कथाएँ 

मैं करूँ शृंगार गहने शब्द के नूतन सजाकर
और तुम वेणी सँवारो शब्द के गजरे लगाकर 

निशा दिवस मैं खोज रहा हूँ

ओ शतरूपे एक तुम्हारी चुप ने कितने प्रश्न उठाए
उनके उत्तर बीजगणित में निशा दिवस मैं खोज रहा हूँ

रहे प्रश्न प्रत्यक्ष, न​हीं है मुश्किल उनके ​ उत्तर देना
बिना किए प्रश्नों के उत्तर होते शत सहस्त्र सम्भावित
असमंजस के गहरे साये घेरे रहते हैं मानस को
जोड़ गुणा के समीकरण में हो न सके कु​छ  भी अनुमानित

नए सूत्र अन्वेषित करता, अंकगणित के विस्तारों में
कोई भी निष्कर्ष न निकला कितनी करता शोध रहा हूँ

कमल लोचने, नयन भंगिमा कितने चक्रव्यूह रच देती
वृत्त,धुरी में,पंखरियों में कितने प्रश्न समाहित होते
अभिमन्यु मन कोशिश करते करते आख़िर थक जाता है
लेकिन जाल बिछे प्रश्नो के, ​ले​श मात्र भी सुलझ न पाते

शतरंजी खानों में होती गुणित विषमताएँ प्रश्नो की
समझ सकूँगा उत्तर का कुछ अता पता भी, सोच रहा हूँ

बिना शब्द की ऊँगली थामे तुमने कितने प्रश्न ​किये हैं ​
दृष्टि वितान मेरा है असफल नापे इनकी सीमा रेखा
जब तक पहला प्रश्न समझ पाने की मैं कोशिश कर पाऊँ
नभ के तारों की संख्या को करते पार इन्हें है देखा

आत्मसमर्पण करता हूँ में सहज तुम्हारे प्रश्नो पर ​बस 
उत्तर दो अब तुम ही इनका, मैं यह कर अनुरोध रहा हूँ

लकीरें रह गई

भाग्य जिसको सोचते थे एक दिन
सामने होकर खड़ा मुसकाएगा
कट गई ये ज़िंदगी करते प्रतीक्षा
हाथ में धुँधली लकीरें रह गई

दिन उगा फिर ढल गया फिर से उगा
मौसमों के साथ ऋतुएँ थी गई
तय रहा। चलना हवा,  तो चली
आएगी झंझाएँ, पुरबा कह गई

चक्रवातों से घिरे चलते रहे
लड़खड़ाते पाँव थे, दुर्गम डगर
पंथ में​ ​विश्रांति की सारी जगह
तेज़ आँधी में समूची ढह ग़ैर

जन्मकुंडली को बना पंडित कहे
हर दिशा, नक्षत्र हर अनुकूल है
साथ चलते बुध, मंगल शुक्र यूँ
फूल में बदले मिले जो शूल है

पर न जाने क्या हुआ, पग जब उठे
राह सम्मुख आइ थी काँटों भरि
पास के पाथेय की थैली भरी
झाड़ियों में थी उलझ कर क्षय गई

उम्रभर वयसंधियों के मोड़ पर
थी मिली फिसलन भरी  ही घाटियाँ
दूर तक कोई सहारा था नहीं
मंज़िलें थी बिन पते की पातियाँ

दृष्टि से ओझल रहा था भाग्यफल
“कुछ नहीं मिलता परिश्रम के बिना
पंडितों ने जो कहा, वह झूठ है”
शाख़ पर आ एक चिड़िया कह गई

हाथ में धुँधली लकीरें रह गई

रिश्ता मेरा और तुम्हारा

तुमने मुझसे पूछा क्या है रिश्ता मेरा और तुम्हारा
मुश्किल हुआ शब्द दे पायें तुमको इसका उत्तर सारा

फूलों का गंधो से जो है, नदिया का बहते पानी से
तट से जो नाता सिकता का, पत्तों का है शाखाओं से
तुमसे मेरा रिश्ता प्रियवर कुछ ऐसा ही सम्बंधित है
किसी तपस्वी का ज्यों तप से या यज्ञों का समिधाओं से

आरति से ज्यों बँधा हुआ है मंत्रों का स्वर गया उचारा
सच कहता हूँ मीत यही है रिश्ता मेरा और तुम्हारा

पूनम की रातों का रिश्ता  बिखरी हुई ज्योत्सनाओं से
जुड़ी हुई वल्गायें सूरज के रथ की ज्यों खिली धूप से
उद्यापन का नैवेद्यों से और समर्पण से जो रिश्ता
रिश्ता तुमसे मेरा ऐसे बौद्ध मठों का ज्योंकि स्तूप से

साहूकार से समबन्धित ज्यों कर्जदार के घर का द्वारा
वैसे ही तो है शतरूपे रिश्ता मेरा और तुम्हारा

कलासाधिके ! हर रिश्ता कब परिभाषित होने पाया है  
मेरा और तुम्हारा रिश्ता- छंदों का रिश्ता गीतों से  
मंदिर से जो गंगाजल का, मदिरा का जो पैमाने से 
रिश्ता मेरा और तुम्हारा,संस्कृतियों का जो रीतों से 

नीरजनयने असफ़ा रहे ग्रंथ जिसका उत्तर देने में
उसी प्रश्न में गूँथा हुआ है रिश्ता मेरा और तुम्हारा 

राकेश खंडेलवाल 

धूप से उठ के दूर



ओ मेरे आवारा मन चल  धूप से उठ के दूर कहीं पर 
इसमें शेष उजास नहीं है केवल है अंधियारा  बाक़ी

हर इक बार उगा है सूरज नए नए आश्वासन लेकर 

ओढ़ सकेंगी नई सुबह मेंसिर पर कलियाँ शाल सुनहरी 
चीर कुहासे और धुंध को कोसरसेगा मतवाला मौसम
खोलेगी नवीन सम्वत् के द्वार गुनगुनी हुई दुपहरी 

लेकिन जागी नई भोर जबआँख मसलते ले अँगड़ाई
उसमें केवल तिमिर घुला थानहीं सुनहरा रंग ज़रा भी 

निश्चय तो था हुआ व्योम से अंशुमान  जब धूप बिखेरे
हर इक कोना रहे प्रकाशित इक समान ही हर कण कण में 
लेकिन चल कर आसमान से धूप रुक गई कँगूरों पर
एक किरण भी उतर न चमकी कोहरे में लिपटे आँगन में 

रहे ताकते चित्र धूप के जो बरसों से  गये  दिखाए
किंतु न बंधी गठरिया अब तक एक बार जो खुली निशा की 

नहीं आज की तथाकथित यह धूप नहीं गुण रूप धूप का
चन्दा के इकतरफा रुख सीएक ओर  ही रही प्रकाशित 
चढ़ बैठी बादल की छत पर  नहीं उतरती आ गलियों में
इससे करना कोई अपेक्षा बिलकुल नहीं रहा सम्भावित

घुटती है आशाए तम से भरे हुये सीले तलघर में 
कहें धूप से उठ के दूर चली जा चाहत नहीं प्रभा की 

घिरता है अंधियारा







उषा की डोली के संग संग घिरता है अँधियारा 
संध्या तक बेचारा सूरज फिरता मारा मारा 

किससे करे शिकायत, सत्ताधीश हुए हैं बहरे 
राजमहल के राजमार्ग पर लगे हुए हैं पहरे 
आश्वासन के मेघ बरसते, बिन पल भर डैम साढ़े 
और कुमकुमे सारे ही उनके बंगलों में ठहरे 

बरस बीतने पर बदले ऋतु , आशा दिए सहारा 
अभी आजकल दोपहरी में भी घिरता अँधियारा 

राजनीति के दांव पेंच में सत्य नकारा जाता 
बढ़ाते विश्व तापक्रम को भी अब झुठलाया जाता 
घिरते हुए प्रभंजन, चक्रवात  एवं अति वृष्टि 
प्राकृतिक विपदाएं  कह  कह कर समझाया जाता 

आने वाली पीढ़ी की किस्मत मेम है जल खारा 
उनकी जन्मकुंडली पर यों घिरता है अंधियारा 

बरसो बीते राह जोहते भोर नई कल आए 
मेघाच्छादित अम्बर में सूरज किरणें बिखराए
दर्पण पर जम गई धूल को पौंछे आ पूरबाइ
देश विदेश भटकता कोई घर वापिस आ जाए

किंतु बुझा हर दीप आस का स्नेह चूक गया सारा
शंनैः: शनै: हर एक दिशा में घिरता ही अंधियारा 






पत्थरों पर गीत लिखे

पत्थरों पर गीत लिक्खे आज तक जो शिल्पियों ने
है तुम्हारे रूप की आराधना का एक उपक्रम

बन गए है ताज कितने रंग गई कितनी अजंता
और फिर कोणार्क ने कितनी सुनाई है कहानी
शिल्प खजूराइ निरंतर गढ़ रहा प्रतिमाएँ जितनी
रूप के सागर,कथा के एक पन्ने की निशानी

कर समाहित शब्दकोशों की सभी उपमाए लिखा
किंतु कर पाए नहीं इक अंश का भी पूर्ण वर्णन

गीत लिक्खे पत्थरों पे रच अहल्याए युगों ने
शिल्प ने बन राम की पदरज उन्हें आकर सँवारा
वह तनिक संशोधनों का ही परस था गीत तन को
संतुलित कर मात्राएँगेयता को था निखरा

लिख रही है जान्हवी जो घाट पर वाराणसी के
रूप के शत लक्ष जो आयाम उन से एक वंदन 

पत्थरों पर गीत लिक्खे जो समय की करवटों ने 
वे अमिट हैं लेख संस्कृति के शिलाओं पर थिरकते 
जल प्रपातों ने कलम बन कर लिखे हैं घाटियों में
वे सुबह से साँझ तक गाती हुई धुन में संवरते 

शब्द शिल्पी ! आज जब तुम हाथ में थामो कलम तो 
इस तरह लिखना रहे इतिहास में बन शैल अंकन 

धूप की अनगिन शिखाएं



रात का श्रृंगार करती चाँद की उजली विभाएँ 
और दिन को आ सजाती धूप की अनगिन शिखाएं 

फागुनी रसगन्ध में डूबी हुई हर इक दिशा है 
चेतिया धुन में हवाएं लग रही हैं गीत गाने 
मोरपंखी साध छेड़े सांस में शहनाईयो  को 
लग रहीं हैं धड़कनों पर पैंजनी अब गुनगुनाने 

मौसमी इन करवटों पर आओ सुधबुध भूल जाएँ 
कर रहीं श्रृंगार दिन का धूप की अनगिन शिखाएं 

खेत की पगडंडियों पर फिर लगी चूनर लहरने
दृष्टि के आकाश पर आकर बिछी चादर बसंती
झूमती अंगनाइयों के संग पनघट पर उमंगें
भावनाओं की गली में प्रीत की बंसी सरसती

कल तलक निर्जनसजीं हैं दुल्हनों सी आज राहें 
और दिन को रँग रही हैं धूप की अनगिन शिखाएँ 

लग गई हैं कोंपलें शाखाओं पर फिर सुगबुगाने 
भोर को देते निमंत्रण आ पखेरू चहचहाते 
चल पड़े निर्झर बिछौना छोड़  कर गिरिश्रृंग वाला
और  लहरों पर बिखरते मांझियों के बोले गाते 

जो बिखेरे रंग इन्द्रधनुषीदिशाओं में प्रक्रुति ने
हम उन्हीं में डूब कर नूतन उमंगों को सजायें

स्वर मिला स्वर में तुम्हारे

रीतियाँ के अनुसरण में मंदिरो में सर झुकाया यज्ञ कर कर देवता को आहुति हर दिन चढ़ाई आर्चना के मंत्रस्वर में  साथ भी देते रहा मैं पर समूची साध...