एक आवाज़ कुछ गुनगुनाती रही


ढल रही शाम की वीथियों में कहीं
एक आवाज़ कुछ गुनगुनाती रही
पत्र पर बादलों की पड़ी छाँव सी
आपकी याद ले सरसराती रही
 
धूप अपना दुपट्टा गई छोड़ कर
जब प्रतीची के घर को चढ़ी पालकी
धार नदिया की बस देखती रह गई
धूप-रोली बिखरते हुये थाल की
बातियाँ दीप की लग पड़ीं जागने
नींद से, आंख अपनी मसलते  हुये
एक पल के लिये सब ठिठक रुक गये
जितने भी बिम्ब थे राह चलते हुये
 
आरती के दिये में सजी ज्योत्सना
बस अकेली वहाँ झिलमिलाती रही
 
रात ने डोरियां चन्द लटकाईं तो
घुप अँधेरा सहज ही उतरने लगा
काजरी आँख को श्याम करते हुए
रेख में एक, काजल संवरता रहा
स्वप्न को इसलिये एक टीका लगा
ताकि उसको कहीं न नजर लग सके
और चुपचाप ही याद को ओढ़कर
मन की एकाकियत में उतर भर सके
 
राह की शून्यता पास आके नयन
झट से छूते हुये दूर जाती रही
 
उंगलियों से हिनायें बिखर व्योम में
लिख गईं नाम बस एक ही,चित्र सा
अंक अपने दिशाओं ने वह भर लिया
कौन जाने उन्हें कैसा विश्वास था
छेड़ती रागिनी इक रही जाह्नवी
नभ में, अपनी तरंगे उठाते हुये
और भरती रही गंध से पांखुरी
नीर अपना छलक कर गिराते हुये

कोई सन्देश ले भोर आ जायेगी
दृष्टि पथ में नयन थी बिछाती रही

फिर चुनाव की रुत आई


फिर चुनाव की रुत आई
 
रोपे जाने लगे बीज गमलों में फिर आश्वासन के
अपने तरकस के तीरों पर धार लगे लेखक रखने
अंधियारी गलियों में उतरी मावस के दिन जुन्हाई
बंजरता  को लगे सींचने देव सुधाओं के झरने
चांदी के वर्कों से शोभित हुई देह की परछाई
फिर चुनाव की रुत आई
 
बूढ़े बिजली के खम्भों पर आयी सहसा तरुणाई
पीली सी बीमार रोशनी ने पाया फिर नवयौवन
चलकर आई स्वयं द्वारका आज सुदामा के द्वारे
तंदुल के बिन लगा सौंपने दो लोकों को मनमोहन
सूखे होठों ने फिर कसमें दो हजार सौ दुहाराईं
फिर चुनाव की रुत आई
 
बनी प्याज के छिलकों सी फिर लगी उधड़ने सब परतें
बदलीं जाने लगी मानकों की रह रह कर परिभाषा
जन प्रतिनिधि  फिर आज हुए हैं तत्पर और हड़प कर लें
जन निधियों का शेष रह गया संचय जो इक छोटा सा
हुईं पहाड़ की औकातें भी आज सिमट कर के राय
फिर चुनाव की रुत आई
 
लगीं उछलने गेंदें आरोपों की प्रत्यारोपों की
चौके छक्के लगे उड़ाने कवि मंचों से गा गाकर
उठे ववंडर नये चाय की प्याली में फिर बिना रुके
अविरल धारा लगा बहाने वादों का गंगासागर
धोने लगा दूध रह रह कर फिर चेहरों की   कजराई
फिर चुनाव की रुत आई
 

और करूँ बस बातें तुमसे

मैने कब यह कहा कि मैं हूँ कोई कवि, कविता करता हूँ
या मैं कोई चित्रकार हूँ, रंग चित्र में ला भरता हूँ
मैं तारों की छाया में इक भटक रहा आवारा बादल
उषा की अगवानी करता, मैं पंखुरियों पर झरता हूँ
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

आज अचानक ना जाने क्यूँ ऐसा मुझको लगा सुनयने
गीत गज़ल सब लिखना छोड़ूँ, और करूँ बस बातें तुमसे

पूछूँ मुझसे दूर तुम्हारे कैसे कटते हैं दिन रातें
क्या पाखी लेकर आते हैं कुछ सन्देशों की सौगातें
जैसे मेरा मानस पट बस चित्र तुम्हारे दिखलाता है
नयन तुम्हारे भी क्या वैसे देखें चित्रों की बारातें

हवा चली उत्तर से आये दक्षिण से पूरब पश्चिम से
उसकी हर अंगड़ाई मुझको लगता जुड़ी हुई है तुमसे

बुनता लिये कल्पनाओं के धागे मन बासन्ती पल्लव
खड़ी रसोई में चूल्हे पर चाय बनाती होगी तुम जब
अनायास उग गये भाल पर स्वेद कणों को चुम्बित करने
स्वयं कमर में उड़सा पल्लू बाहर आ जाता होगा तब

काफ़ी का प्याला हो कर में या हो चाय दार्जिलिंग वाली
लगता मुझे अनूठेपन का स्वाद मांग लाई हैं तुमसे

आ जाता है ख्याल काम जब करता मैं अपने दफ़्तर में
तब हर अक्षर मुझको लगता लिखा तुम्हारे ही खुश्खत में
क्या तुमने भी महसूसा है ऐसे ही कुछ व्यस्त पलों में
कभी ट्रेन में आफ़िस में या कभी काम कुछ करते घर में

लिखता हूँ तो शब्द तुम्हारे ही नामों में ढल जाता हैं
पढ़ता हूँ तो गीत कहानी सब कुछ प्रेरित लगता तुमसे

संभव नहीं मुझे शतरूपे

संभव नहीं मुझे शतरूपे करुँ विवेचन संदेशों का
बिना शब्द के लिखे हुए हैं जो कि नयन पृष्ठों पे तुमने
 
शब्दों की अक्षमताओं का भान तुम्हें है, ज्ञात मुझे है 
इसीलिए ही मनभावों को व्यक्त किया रच नव भाषायें 
अपनी हर अनुभूति रंगी है मूक नयन के संप्रेषण में
करती है जीवंत हृदय के पाटल पर अंकित गाथायें
 
परकोटे की खिंची हुई हर इक रेखा को धूमिल कर के
वक्षस्थल पर लिखा समय के हस्ताक्षर कर कर कर तुमने 
 
हुए सहज आलोकित जितने भी अभिप्राय मौन स्वर के थे
अनायास हो गया भावनाओं का फ़िर समवेत प्रकाशन 
ज्ञात तुम्हें है, ज्ञात मुझे है, उन अबोल अनमोल क्षणों में
कितनी बार टूट कर बिखरा ओढ़ा हुआ एक अनुशासन 
 
कहने की है नहीं तनिक भी आवश्यकताएं पर फ़िर भी
कहता हूँ फ़िर से लिख डाला मन पट पर नव आखर तुमने
 
भाव अंकुरित मीरा वाले दो पल, फ़िर दो पल राधा के 
किन्तु अपेक्षित मुरली वादन मैं असमर्थ रहा करने में 
मैं अविराम निरंतर गतिमय, ठिठका नहीं पंथ में तो फ़िर
कला साधिके ! साथ चली तुम  बन कर धाराएं झरने में
 
इसी एक पल की परिणति है मैं जिसको स्वीकार कर रहा
अपने नाम लिख लिए मेरे सारे ही निशि-वासर तुमने 

2012


हों दिवस आपके स्वर्ण पत्रों मढ़े और रजनी को रंगती रहे चाँदनी

आपके पंथ को सींचती नित रहे करते छिडकाव आकर घटा सावनी

भोर सारंगियों की धुनों में सजे,सांझ तुलसी के चौरे जला दीप हो

आपके द्वार पर सरगमों को लिए हर घड़ी मुस्कुराती रहे रागिनी



टूट कर आस के फूल पिछले बरस,जो बिखर रह गए फिर से जीवंत हों

आस्था फिर नई दुल्हनों सी सजे,आपके स्वप्न फिर अनलिखे ग्रन्थ हों

ताकते उँगलियों का इशारा रहें आपकी, नभ के नक्षत्र तारे सभी

हर घड़ी आके चूमे सुयश आपको,कीर्ति से आपकी लोक जयवंत हों



मुझे झुकने नहीं देता

तुम्हारे और मेरे बीच की यह सोच का अंतर तुम्हें मुड़ने नहीं देता मुझे झुकने नहीं देता कटे तुम आगतों से औ विगत से आज में...