कम्प्यूटर का काम

कम्प्यूटरों का अब दखल हर क्षेत्र में हुआ
कविता का काम भी इन्ही पे छोड़ देंगें हम
जो काबिले तारीफ़ ये कविता न लिख सका
स्क्रीन फ़ोड़ देंगें, माऊस तोड़ देंगें हम

9 comments:

Udan Tashtari said...

लिखी कम्प्यूटर ने आपकी
काबिले तारीफ कविता आज,
हमारी टिप्पणी भी संग रहे
कौनो तरकीब करो ईजाद.


--यह तस्वीर भी कम्प्यूटर बाबू ने अच्छी बनाई है. बहुत मजाकिया टाईप के हैं आपके कम्प्यूटर कवि.

अनूप शुक्ला said...

बढि़या है. आपकी कविता फोटोजेनिक देखकर अच्छा लगा.

Tarun said...

माइक्रोसोफ्ट ने किया शुरू, टैक सपोर्ट अब साईकिल से।
राम प्रसाद ने काम सभाँला, सीधे देखो माईकिल से।।

राकेश जी, फोटु बड़ी शानदार लायें हैं।

Punit Pandey said...

Rakesh ji, kaun sa call center hai yeh? :-)

भुवनेश शर्मा said...

पैडल की ऊर्जा से चलने वाला लैपटॉप भी होता है?
माइक्रोसॉफ़्ट सभी का ख्याल रखता है शायद

राकेश खंडेलवाल said...

काल सेंटर नहीं बपौती अब गुड़गांवा की पांडेजी
देहातों तक लैपटाप ने अपने फ़न को फ़ैलाया है
जब अधुनातनता पर भारत की है संदेह उठाता कोई
तब की हैं नूतन ईज़ादें, और जुगाड़ भी लगवाया है

Anonymous said...

वाह!राकेश जी क्या बात है

Dr.Bhawna said...
This comment has been removed by the author.
Dr.Bhawna said...

भई वाह ये हुई ना बात ! अब तो कोई समस्या ही नहीं होगी सब काम आसानी से हो जायेगें क्या बात है ! ! कुछ दिन के लिए उधार देना होगा आपको अपना लैपटॉप, देगें ना?

मुझे झुकने नहीं देता

तुम्हारे और मेरे बीच की यह सोच का अंतर तुम्हें मुड़ने नहीं देता मुझे झुकने नहीं देता कटे तुम आगतों से औ विगत से आज में जीते वही आदर्श ओ...