ज़िन्दगी

ज़िन्दगी ये न ईमेल कविताओं की
पढ़ लिया हो जिसे गुनगुनाते हुए
छन्द ये है नहीं प्रीत का लिख गया
कोई मन पर जिसे गुदगुदाते हुए
चित्र भी वो नहीं,भोर की रश्मियाँ
कूचियाँ ले दिवस में सजाती रहें
ज़िन्दगी अश्रु मुस्कान के पल रँगे
चन्द आते हुए चन्द जाते हुए

----------------------

ज़िन्दगी को निहारा सभी ने मगर
दृष्टि मेरी अलग कोण से है पड़ी
मुझको देकर गई भिन्न अनुभूतियाँ
आपसे,हो दिवस की निशा की घड़ी
सांझ ने सन्धि करते हुए यामिनी
से किये जितने अनुबन्ध, मैने पढ़े
मैं तलाशा किया उद्गमों के सिरे
दृष्टि जब दूसरी,फ़ुनगियों पे चढ़ी

------------------------

ज़िन्दगी एक चादर मिली श्वेत सी
बूटियाँ नित नई काढ़ते हम रहे
छोर को एक,छूकर चली जो हवा
साथ उसके किनारी चढ़े हम बहे
फूल पाये न जब टाँकने के लिये
हम बटोरा किये पत्र सूखे हुए
सांझ को फिर सजाते रहे स्वप्न वे
भोर के साथ जो नित्य ही थे ढहे

Comments

Shardula said…
This comment has been removed by the author.
भोर के साथ कितने ही स्वप्न ढह जाते हैं और हम वास्तविकता के धरातल पर आकर खड़े हो जाते हैं। सुन्दर पंक्तियाँ।
पारूल said…
फूल पाये न जब टाँकने के लिये
हम बटोरा किये पत्र सूखे हुए

bahut sundar
Udan Tashtari said…
ज़िन्दगी ये न ईमेल कविताओं की
पढ़ लिया हो जिसे गुनगुनाते हुए


-सत्य वचन!!

ज़िन्दगी को निहारा सभी ने मगर
दृष्टि मेरी अलग कोण से है पड़ी


-उसी के तो काय हैं हम सभी....


ज़िन्दगी एक चादर मिली श्वेत सी
बूटियाँ नित नई काढ़ते हम रहे


-बस!! इसी तरह सजाते रहिये...देखिये, कितनी सुन्दर और सुसज्जित हो चली है.


बेहतरीन रचना!!
एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !
इस बार आपके लिए कुछ विशेष है...आइये जानिये आज के चर्चा मंच पर ..

आप की रचना 06 अगस्त, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
http://charchamanch.blogspot.com

आभार

अनामिका
बहुत खूब ,
फूल पाये न जब टाँकने के लिए
हम बटोरा किये पत्र सूखे हुए
साँझ को फिर सजाते रहे स्वप्न वे
भोर के साथ जो नित्य ही थे ढहे
बहुत सुन्दरता से ज़िन्दगी से परिचय कराया है।
बहुत सुन्दर...आनन्द आया पढ़ कर
राकेश जी, निशब्द हूँ.. ३ भाग में आपकी रचनाएँ दिल छू गई, जिंदगी को खूब पेश किया....धन्यवाद.अत्यन्त खूबसूरत प्रस्तुति..प्रणाम राकेश जी

Popular posts from this blog

अकेले उतने हैं हम

तुम ने मुझे पुकारा प्रियतम

बहुत दिनों के बाद