चर्चा ही चर्चायें बाकी अब


चर्चा ही चर्चायें बाकी अब  सब मंचों पर
 
किसने दल बदला है
देकर कौन गया इस्तीफ़ा
किसने कूटनीति का अब तक
क ख ग न सीखा
किसने राह दिखाई
होकर कौन रहा अनुमोदी
कजरी सुनता कौन
राग का रहता कौन विरोधी
 
एक गिलट कैसे भारी है सौ सौ टंचों पर
बचपन का इतिहास कौन है
रख न सका जो याद
कौन जेल था गया
राज से किसने की फ़रियाद
किसकी एड़ी तले दबी है
पूरी अर्थ व्यवस्था
किसके कारण करे मजूरी
ले विश्राम, अवस्था
 
किसके पाँव जमे रहते हैं ढुलके कंचों पर
ज्ञानवान है कौन यहाँ पर
कौन रहा अनजान
प्रश्नों को सुलझाया करतीं
पानों की दूकान
चर्चा करते बड़े बड़े सब
ज्ञानी और ध्यानी
दुविधा होती नहीं, बात
उनकी जाती मानी
 
जुड़ते जाते सभी फ़ैलते हुये प्रपंचों पर

1 comment:

प्रवीण पाण्डेय said...

नहीं समझ आता यह दलदल,
और कहाँ से शुरु समस्या।

मुझे झुकने नहीं देता

तुम्हारे और मेरे बीच की यह सोच का अंतर तुम्हें मुड़ने नहीं देता मुझे झुकने नहीं देता कटे तुम आगतों से औ विगत से आज में जीते वही आदर्श ओ...