आँसू ने इंकार कर दिया

मैने कलम हाथ में लेकर, सोचा शब्द पीर को दे दूँ
लेकिन आंसू ने स्याही में ढलने से इंकार कर दिया

निमिष विरह के जले दीप से, एकाकीपन नागफ़नी है
और जहां तक देखा मन में घिरी निराशा बहुत घनी है
मुस्कानों की नगरी वाले पथ पर जब जब भी आशायें
चलीं चार पग, वक्त लुटेरा, आ कर जाता राहजनी है

मैने हर पल ज्योति जगा कर एक किरन को पास बुलाया
लेकिन्ब रजनी ने उषा में ढलने से इंकार कर दिय

सुधियों की शहनाई पर जब बजी वेदनाओं की सारगम
सारंगी के करुण स्वरों ने किया साथ में मिलकर संगम
अलगोजे के सुर ने पकड़ा मरुथल वाली लू का झोंका
पंचम का आरोह बन गया, सिसकी वाला स्वर भी मद्दम

पथाराई आंखों में चाहा स्वप्न आंज दूं चन्द्र निशा के
लेकिन संध्या ने काजल में ढलने से इंकार कर दिया

सन्नाटे का दर्द न समझी, बढ़ती हुई गहन खामोशी
अपराधी सी हवा मौन है, दे स्वीकॄति होने की दोषी
सुइयों ने कर लिया घड़ी की, आज पेंडुलम से गठबन्धन
अटकी हुईं एक ही स्थल पर पीती हुईं सभी सरगोशी

मैने सूरज को आमंत्रण भेजा, आ दिन को गति दे दे
लेकिन उसके हर घोड़े ने चलने से इंकार कर दिया

बासन्ती चूनर पर आकर लगे बबूलों के यों पहरे
उड़ा रंग बस शेष रह गये हैं पतझड़ के साये गहरे
कोयल की कूकों को पीने लगी चीख नभ में चीलों की
ओढ़ घनी निस्तब्ध टीस को,पल आकर पल के घर ठहरे

मैने चाहा अमराई को नये सिरे से मैं बौराऊं
लेकिन मरुतों ने पुरबा में ढलने से इंकार कर दिया

4 comments:

parul k said...

वाह,बहुत बहुत सुंदर…एक एक पंक्ति रस भरी……पूरी कविता जी उट्ठी है। रकेश जी…बहुत आभार

पंकज सुबीर said...

राकेश जी बहुत सुंदर कविता लिखी है आपने ये कविता मैं अपने श्रद्धेय कवि श्री नारायण कासट को सुनाऊंगा वे हिंदी कविता के पतन को लेकर काफी चितित हैं और उम्र की इस ढलती वेला में ये कविता उनको सुकून देगी अापको बधाई

पंकज सुबीर said...

राकेश जी बहुत सुंदर कविता लिखी है आपने ये कविता मैं अपने श्रद्धेय कवि श्री नारायण कासट को सुनाऊंगा वे हिंदी कविता के पतन को लेकर काफी चितित हैं और उम्र की इस ढलती वेला में ये कविता उनको सुकून देगी अापको बधाई

राकेश खंडेलवाल said...

पंकजजी,

आपके स्नेह का आभार

पारुलजी--धन्यवाद

मुझे झुकने नहीं देता

तुम्हारे और मेरे बीच की यह सोच का अंतर तुम्हें मुड़ने नहीं देता मुझे झुकने नहीं देता कटे तुम आगतों से औ विगत से आज में जीते वही आदर्श ओ...