Friday, December 29, 2006

रोलियों अक्षतों में रँगें आस को

इक नये वर्ष की ओढ़नी इढ़ कर
आई उषा की दुल्हन खड़ी द्वार पर
आओ अगवानी करने को आगे बढें
कामनायें चलें साथ श्रन्गार कर

विश्व कल्याण की रोलियां लें सजा
इक नई आस को अक्षतों में भरें
मुस्कुराहट के रंगीन कुसुमों तले
ज़िन्दगी की डगर हर सुगंधित करें
ईश की देन हर मानवी देह को
आओ मंदिर बना कर करें आरती
हर दिशा तान वीणा की छेड़े रहे
सांझ सरगम के नूपुर हो झंकारती

फ़ागुनी हो उमंगें बरसती रहें
हर घड़ी हर दिवस पूर्ण संसार पर

वैमनस्यों की रजनी जो अबकी ढले
फिर न देखे कभी भोर की रश्मियां
जो भी दीवार अलगाव की हैं खिंची
उनमें अपनत्व की आ खुलें खिड़कियां
पूर्ण वसुधा है इक, हम कुटुम्बी सभी
आओ इस बात को फिर से व्यवहार दें
हाथ अपने बढ़ाते चलें हम सभी
जो मिले राह में उसको बस प्यार दें

स्वप्न हर इक ढले शिल्प में, औ' गगन
गाये दिन रात पुष्पों की बौछार कर

आओ नव वर्ष की ले प्रथम नवकिरण
कुछ लिखें हम नया और संकल्प लें
नव प्रयासों के पाथेय की पोटली
साथ ले, नीड़ की नव डगर थाम लें
गान मधुपों के, झरनों के, कोयल के ले
कंठ का स्वर सभी का सजाते रहें
बाँटकर अपनी उपलब्धियों के सिले
ज़िन्दगी खूबसूरत बनाते रहें

आओ मिल कर रखें नींव अनुराग की
आज विश्वास के ठोस आधार पर
इक नये वर्ष की ओढ़नी ओढ़कर
आई उषा की दुल्हन खड़ी द्वार पर

राकेश खंडेलवाल
नववर्ष २००७

1 comment:

Udan Tashtari said...

इतने खुबसूरत संगीतमय स्वागत से नव वर्ष निश्चित रुप से आकर बहुत खुश होगा. ढ़ेरों शुभकामनायें.