असलियत बस अँगूठा दिखाती रही

घुँघरुओं से बिछुड़ पैंजनी रह गई
मौन की रागिनी झनझनाती रही
-
अव्यवस्थित सपन की सुई हाथ ले
करते तुरपाई हम थे रहे रात भर
चीथड़ों में फ़टे वस्त्र सा पर दिवस
हमको देता अंधेरा रहा कात कर
ज़िन्दगी थी सिरा तकलियों का रही
पूनियां दूर होती गईं वक्त की
सेमली फ़ाहे ओढ़े हुए थे निमिष
असलियत पत्थरों सी मगर सख्त थी

और पग की तली से विमुख राह हो
मोड़ पर ही नजर को चुराती रही

ग्रीष्म की एक ढलती हुई दोपहर
तोड़ती अपनी अंगड़ाईयाँ रह गई
जो बनीं ताल पर चन्द परछाईयां
ज़िन्दगी है वही, ये हवा कह गई
आस का रिक्त गुलदान ले हाथ में
कामना बाग में थी भटकती फ़िरी
ताकती रह गई चातकी प्यास नभ
बूंद झर कर नहीं स्वाति की इक गिरी

कंठ की गठरियाँ राह में लुट गईं
शब्द की आत्मा छटपटाती रही

दॄष्टि की उंगलियाँ खटखटाती रहीं
द्वार चेहरों के खुल न सके अजनबी
कोई आगे बढ़ा ही नहीं थामने
डोरियां नाम की थीं पतंगें कटी
एक पहचान संचित नहीं पास में
आईना हाथ फ़ैलाये कहता रहा
कल्पना का किला था गगन तक बना
बालुओं का महल होके ढहता रहा

और असमंजसों को लपेटे खड़ी
असलियत बस अँगूठा दिखाती रही

7 comments:

Udan Tashtari said...

वाह!! बहुत उम्दा गीत-आनन्द आ गया.

आशुतोष दुबे "सादिक" said...

bahut hi accha geet likha hai aapne,aap kabhi hamare blog par aaiye ,aap ka swagat hai,follower ban kar hame sahyog dijiye:

http://meridrishtise.blogspot.com

विनय said...

आपकी कलम में जादू है

---आपका हार्दिक स्वागत है
चाँद, बादल और शाम

रंजना [रंजू भाटिया] said...

बहुत बढ़िया लगा यह गीत ..शुक्रिया

सतपाल said...

अव्यवस्थित सपन की सुई हाथ ले
करते तुरपाई हम थे रहे रात भर
lajwab!!

Rakesh Pandey said...

बहुत बहुत सुन्दर, आपके शब्द मोती की तरह झरते है, ऐसे शब्दो से शुशोभित कविताओ को पढते हुये भला प्रशन्सा मे मेरे पास ही क्या? किसी के पास भी भला कोई शब्द हो सकते है बस जब भी पढता हू मा सरस्वती से कहता हू कि वे आपकी लेखनी को और बेहतरीन धार दे, हा शर्दुला जी का इसके लिये आभार व्यक्त करना भी कभी नही भूलता , उन्होने ही ऐसी बेमिसाल कविताओ के दर्शन का मार्ग दिखाया.

सम्मान सहित
सादर
राकेश

Shar said...

इस कविता को सीधे, "National archive of प्रतिनिधि बिम्ब" में भेज देना चाहिये। बहुत ही सुन्दर शब्द चित्र ! दुख की बात बस ये है कि मन एकदम उदास हो गया है पढ के। अब बहुत दिन हुये कोई खुशी का गीत ना गाया आपने गुरुदेव !

सादर ।।

सूर्य फिर करने लगा है

रंग अरुणाई हुआ है सुरमये प्राची क्षितिज का रोशनी की दस्तकें सुन रात के डूबे सितारे राह ने भेजा निमंत्रण इक नई मंज़िल बनाकर नीड तत्प...