हर पल साथ रहे तुम मेरे

ओस में डूब कर फूल की पंखुड़ी भोर की इक किरण को लगी चूमने
गंध फिर तितलियों सी हवा में उड़ी, द्वार कलियों के आकर लगी घूमने
बात इतनी हुई एक पत्ता कहीं आपके नाम का स्पर्श कर आ गया
यों लगा आप चलने लगे हैं इधर, सारा उपवन खुशी से लगा झूमने
 
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
 
पतझड़ के पहले पत्ते के गिरने की आहट से लेक
अंकुर नये फ़ूटने के स्वर तक तुम साथ रहे हो मेरे

जब जब ढलती हुई सांझ ने अपना घूँघट जरा निकाला
चन्द्रज्योत्सना वाले मुख पर इक झीना सा परदा डाला
उड़ी धुन्ध के धुंधुआसे दर्पण में चित्र संवारे मैने
और ओढ़नी से तारों की बिन्दु बिन्दु को रखा संभाला

बढ़ते हुए निशा के पथ में मैने रखा हाथ वह थामे
जिसकी शुभ्र कलाई छूकर अस्त हुए स्वयमेव अंधेरे

दिन का दीपक जला जिस घड़ी प्राची की पूजा थाली में
गंध उगाने लगी फूल जब सूखे कीकर की डाली में
दोपहरी आचमन कर गई बही धार के गंगाजल का
और तीसरा पहर अटक कर रहा पीतवर्णी बाली में

तब तब बन कर शलभ रहा मैं साथ ज्योति की अँगड़ाई के
नहीं मेघ की परछाईं फिर डाल सकी आंगन में डेरे

गति के चलते हुए चक्र में कोंपल फिर उगती झर जाती
और शेष हो रह जाती है एक बार जल कर के बाती
एक बार उद्गम से निकला नहीं लौटता कोई वापिस
और बात शब्दों में ढल कर बचती नहीं खर्च हो जाती

लेकिन साथ तुम्हारा मेरे संचय की इक अक्षय निधि है
तॄण भी एक न कम हो पाता बीते संध्या और सवेरे

Comments

Shar said…
:)
Udan Tashtari said…
लेकिन साथ तुम्हारा मेरे संचय की इक अक्षय निधि है
तॄण भी एक न कम हो पाता बीते संध्या और सवेरे

-क्या कहें...जबरदस्त अभिव्यक्ति!! बहुत खूब, राकेश भाई!!
राकेश जी एक बार फिर से धन्यवाद देना चाहेंगे लाज़वाब प्रस्तुति के लिए ..गीत के इस सम्राट को मेरा सादर नमन..
राकेश जी गलत बात है आप हर बार ऐसी अनूठी रचनाएँ हमें पढने को तो दे देते हैं लेकिन ये नहीं बताते की इनके लिए प्रशंशा के शब्द कहाँ से लायें...हमारे शब्द कोष में प्रशंशा के जो शब्द हैं वो सभी बौने हैं...
नीरज
psingh said…
सुन्दर रचना
इस अच्छी रचना के लिए
आभार .................
Shardula said…
अतिसुन्दर!
"पतझड़ के पहले पत्ते के गिरने की आहट से लेक
अंकुर नये फ़ूटने के स्वर तक तुम साथ रहे हो मेरे"
शायद यहाँ भी यह गीत ख़त्म हो जाता तो भी उतना ही सुन्दर लगता :) ... यही दो पंक्तियाँ सम्पूर्ण कविता हैं.
---
"बढ़ते हुए निशा के पथ में मैने रखा हाथ वह थामे
जिसकी शुभ्र कलाई छूकर अस्त हुए स्वयमेव अंधेरे"
ये दो पंक्तियों को पढ़ के बहुत ही सुन्दर और शुभ्र सा चित्र बनता है ज़हन में.
----
अंतिम छंद इतना सुन्दर है कि लगता है टिप्पणी लिखने से कहीं मैला न हो जाए.. सो बस नमन उसको!
आभार!
31Jan10

Popular posts from this blog

तुम ने मुझे पुकारा प्रियतम

वीथियों में उम्र की हूँ

चाहता हूँ लेखनी को उंगलियों से दूर कर दूँ