लेकिन संबोधन पर

सोचा मैने लिखूँ तुम्हें इक पत्र ह्रदय के भावों वाला
लेकिन संबोधन पर आकर अटकी रही कलम बेचारी

चाहा लिखूँ चम्पई फूलों के रंगों के पाटल वाली
चाहा लिखूं अधर पर खिलते कचनारों की लाली वाली
सोचा लिखूं सुधा का झरना देह धरे उतरा है भू पर
केसर में भीगी हो चन्दन की गंधों से महकी डाली

शतरूपे ! पर सिमट न पाता शब्दों में विस्तार रूप का
शब्दकोश ने हार मान कर दिखला दी अपनी लाचारी

सोचा छिटकी हुई ज्योत्सना लिखूँ शरद वाली पूनम की
सोचा लिखूँ प्रथम अँगड़ाई, फ़ागुन के बहके मौसम की
प्राची के मस्तक पर रखती हुई मुकुट इक रश्मि भोर की
याकि प्रेरणा एक सुखद तुम, लिखूं अजन्ता के उद्गम की

कलासाधिके ! कोई तुलना न्याय नहीं तुमसे कर पाती
क्या मैं देकर नाम पुकारूँ, बढ़ती रही मेरी दुश्वारी

सॄष्टा की जो मधुर कल्पना, कैसे उसको कहो पुकारूँ
जो है अतुल उसे मैं केवल शब्दों से किस तरह संवारूँ
चित्रलिखित हैं नयन और वाणी हो जाती है पाषाणी
तब भावों की अभिव्यक्ति को, किस सांचे में कहो उतारूँ

मधुर सरगमे ! एक नाम से सम्बोधित कर सकूँ असंभव
एक फूल में नहीं समाहित होती गंध भरी फुलवारी

इसीलिये संबोधन पर आ अटकी रही कलम बेचारी

Comments

रंजू said…
बहुत सुंदर ..कविता .भाव दिल को छू गए इस के !
मीत said…
राकेश जी, कमाल की रचना है. विचार, भाव, भाषा, प्रस्तुति - सब कुछ एकदम कमाल का - बिल्कुल कसा हुआ. बहुत ही अच्छा, बधाई स्वीकारें.
Mired Mirage said…
आपकी रचना पढ़ आश्चर्यचकित रह गई । बहुत सुन्दर भाषा , बहुत सुन्दर भाव ! लगता है जैसे कोई किसी बहुत ही पुरातन काल में ले गया , जब नारी को ये सब उपमाएँ दी जाती थीं। शायद कालीदास के युग में!
घुघूती बासूती
जोशिम said…
बहुत बढ़िया - खासकर " चित्रलिखित हैं नयन और वाणी हो जाती है पाषाणी/ तब भावों की अभिव्यक्ति को, किस सांचे में कहो उतारूँ" - उत्तम प्रेम पत्र - मनीष
रंजूजी,मीतजी, घुघुतीजी तथा मनीषजी

आपके प्रोत्साहन एवं स्नेहिल शब्दों के लिये आभारी हूँ.

राकेश
मधुर सरगमे ! एक नाम से सम्बोधित कर सकूँ असंभव
एक फूल में नहीं समाहित होती गंध भरी फुलवारी
आप ने ऐसी रचना लिख डाली है की प्रशंशा के लिए शब्दों का अभाव महसूस हो रहा है. बहुत बहुत बहुत सुंदर.
नीरज

Popular posts from this blog

तुम ने मुझे पुकारा प्रियतम

वीथियों में उम्र की हूँ

बीत रही दिन रात ज़िन्दगी