मन फ़िर से एकाकी

दोपह्री है दिन से रूठी
आशाओं की गगरी फूटी
परिवर्तन की बातें झूठीं
विमुख हो चुकी है प्याले से अब सुधियों की साकी
मन फिर से एकाकी
 
जीवन की पुस्तक के पन्ने
से अक्षर लग गये बिगड़ने
तम के रंग लगे हैं भरने
फिर लिख पाये ऐसी कोई नहीं लेखनी बाकी
मन फ़िर से एकाकी
 
जुड़े तार सारे ही बिखरे
रंग पीर के गहरा निखरे
हुए सपन सब टूटॆ ठिकरे
जेठ किये बैठा बन्दी कर सावन की हर झांकी
मन फ़िर से एकाकी

Comments

एकाकी मन जीवन को राह दिखाता है, हर बार..

Popular posts from this blog

तुम ने मुझे पुकारा प्रियतम

वीथियों में उम्र की हूँ

बीत रही दिन रात ज़िन्दगी