हम कुशल क्षेम के पत्र लिखते रहे

आंसुओं में घुली पीर पीते हुए
हम कुशल क्षेम के पत्र लिखते रहे
 
एक पल के लिए भी न सोचा कभी
हम व्यथाएं किसी और से जा कहें
सांत्वना के हवाओं को आवाज़ दें
फिर गले से लिपट साथ उनके बहें
होंठ ढूंढें कोई अश्रु पी जाए जो
कोई कान्धा,जहां शीश अपना रखें
कोई अनुग्रह,अपेक्षाओं के डोर से
थाम कर हाथ में साथ बांधे रखें
 
पंथ ही ध्येय माने हुए रख लिया
त्याग विश्रांति पल,नित्य चलते रहे
 
भीड़ मुस्कान के साथ चलती सदा
अश्रु रहता अकेला,यही कायदा
इसलिए ढांप कर अश्रु अपने रखे
था प्रकाशन का कोई नहीं फ़ायदा
कारुनी द्रष्टि जो एक पल हो गई
दूसरे पल विमुख ज्ञात हो जायेगी
और फिर से स्वयं को ही इतिहास के
अनवरत हो कहानी ये दुहारायेगी
 
मंडियों में उपेक्षित हुए शूल हैं
फूल ही सिर्फ दिन रात बिकते रहे

Comments

मन के कुछ पीड़ा क्षेत्र, समय के कुछ चुभते पल, भावपूर्ण रचना।
Udan Tashtari said…
बहुत भावपूर्ण...

आज यू के निकलना है ४ हफ्ते के लिए.
BLOGPRAHARI said…
This comment has been removed by the author.
BLOGPRAHARI said…
हिंदी ब्लॉग एग्रीगेटर के इतिहास में ब्लॉगप्रहरी एक ऐसे मंच के रूप में आपके समक्ष है, जिससे आप संपूर्ण हिंदी ब्लॉग मंच का नाम दे सकते हैं. ब्लॉगप्रहरी मात्र एक एग्रीगेटर ने हो कर, एक सोशल नेट्वर्क भी है. इस प्रारूप में ब्लॉगप्रहरी के विकास को ले जाने के पीछे हमारा उद्देश्य गैर हिंदी ब्लॉग लेखकों व हिंदीभाषिओं की ४० लाख से अधिक अंतरजाल पर मौजूद आबादी के मध्य २० हजार हिंदी ब्लॉग को पहुँचाना है. ऐसे में आपका प्रत्यक्ष सहयोग और समर्थन की हम अपेक्षा रखते है.
ब्लॉगप्रहरी एक संपूर्ण एग्रीगेटर है जो आपके न्यू मीडिया के तमाम खुबिओं के साथ-साथ एक हिंदी ब्लॉगर की आवश्यकताओं को केंद्र में रखकर बनाया गया, अब तक सर्वाधिक सुविधा संपन्न एग्रीगेटर है. आपका ब्लॉग ब्लॉगप्रहरी पर पहले से जोड़ा जा चूका है ,कृपया अपनी सक्रियता से हिंदी ब्लॉगजगत को एक मंच पर एकत्रित करने में भागीदार बनें.
ब्लॉगप्रहरी टीम
www.blogprahari.com

Popular posts from this blog

तुम ने मुझे पुकारा प्रियतम

वीथियों में उम्र की हूँ

बीत रही दिन रात ज़िन्दगी