उत्तर गुमनाम रहे

एक प्रश्न जो ढलती निशा उछाल गई
उत्तर उसका ढूँढ़ सुबह से शाम रहे

थकन पंथ के अंतिम कदमों की, या हो
उगी भोर की अंगड़ाई में क्या अंतर
संकल्पों की भरी आंजुरी में संशय
या हो आहुतियों से रही आँजुरि भर
एक अकेला तारा नभ में उगा प्रथम
याकि आखिरी तारा, गगन अकेला हो
दॄष्टि साधना, प्रथम मिलन की आस लिये
दॄष्टि मिले जब घिरे विदा की बेला हो

हैं समान पल, लेकिन अर्थ विलग क्यों हैं
प्रश्न चिन्ह यह आकर उंगली थाम रहे

प्रश्नों के व्यूहों में उत्तर घिरे हुए
जाने कैसे स्वयं प्रश्न बन जाते हैं
उतनी और उलझती जाती है गुत्थी
जितना ज्यादा हम इसको सुलझाते हैं
सर्पीली हों पगडंडी, या हों कुन्तल
भूलभुलैय्या राह कहाँ बन पाती है
हो आषाढ़ी या हो चाहे सावन की
एक अकेली बदली क्या क्या गाती है

अपनी आंखों के दर्पण में छाया को
हम तलाशते हर पल आठों याम रहे

कोई अटका रहा वॄत्त में, व्यासों में
कोई उलझा बिन्दु परिधि के पर जाकर
कोई अर्धव्यास में सिमटा रहा सदा
कोई था समकोण बनाये रेखा पर
हम थे त्रिभुजी, किन्तु आयतों में उलझे
कोई जिनमें नहीं रहा सम-अंतर पर
सारे जोड़ गुणा बाकी के नियम थके
जीवन का इक समीकरण न सुलझा पर

अंकगणित से ज्यामितियों के बीच रहा
बीजगणित,जिसके उत्तर गुमनाम रहे

Comments

रंजू said…
प्रश्नों के व्यूहों में उत्तर घिरे हुए
जाने कैसे स्वयं प्रश्न बन जाते हैं
उतनी और उलझती जाती है गुत्थी
जितना ज्यादा हम इसको सुलझाते हैं
सर्पीली हों पगडंडी, या हों कुन्तल
भूलभुलैय्या राह कहाँ बन पाती है
हो आषाढ़ी या हो चाहे सावन की
एक अकेली बदली क्या क्या गाती है

सही और सुंदर ...सुंदर भाव से सजी है यह रचना आपकी राकेश जी ..ज़िंदगी के न जाने कितने सवाल अनसुलझे ही रह जाते हैं ..अच्छी सार्थक आपकी बेहतरीन रचनाओं में एक है यह रचना .शुभ कामना के साथ

रंजू
उतनी और उलझती जाती है गुत्थी
जितना ज्यादा हम इसको सुलझाते हैं
सर्पीली हों पगडंडी, या हों कुन्तल
भूलभुलैय्या राह कहाँ बन पाती है

आपको जितना पढता हूँ, उतना ही सीखने को मिलता है। आभार...

*** राजीव रंजन प्रसाद
प्रश्नों के व्यूहों में उत्तर घिरे हुए
जाने कैसे स्वयं प्रश्न बन जाते हैं
उतनी और उलझती जाती है गुत्थी
जितना ज्यादा हम इसको सुलझाते हैं
सर्पीली हों पगडंडी, या हों कुन्तल
भूलभुलैय्या राह कहाँ बन पाती है
हो आषाढ़ी या हो चाहे सावन की
एक अकेली बदली क्या क्या गाती है
प्रश्नों के व्यूहों में उत्तर घिरे हुए
जाने कैसे स्वयं प्रश्न बन जाते हैं
उतनी और उलझती जाती है गुत्थी
जितना ज्यादा हम इसको सुलझाते हैं
सर्पीली हों पगडंडी, या हों कुन्तल
भूलभुलैय्या राह कहाँ बन पाती है
हो आषाढ़ी या हो चाहे सावन की
एक अकेली बदली क्या क्या गाती है

bahut sunder ...!

Popular posts from this blog

तुम ने मुझे पुकारा प्रियतम

वीथियों में उम्र की हूँ

बीत रही दिन रात ज़िन्दगी