होली का रंग

लजाती ओढ़ कर चूनर सुनहरी, खेत में बाली
डिठौना बन गई सरसों, बहारों की जवानी का
बिरज ने टेसुओं का है नया पीताम्बर ओढ़ा
कथानक लिख रही जमुना उमंगों की कहानी का


हरे नीले गुलाबी रंग, सूखे और हैं गीले
चमकते कत्थई भी बैंगनी भी और हैं पीले
अधर के रंग, आँखों के, कपोलों पर खिंचे जो भी
बुलावा दे रहे हैं आज सुधि को भूल कर जी ले


चुहल अँगड़ाईयाँ लेती सजी है आज आँगन में
शहद मे डूब कर मलयज थिरकती झूम कानन में
रँगा है रंग होली के भ्रमित सा हो गया मौसम
घुली मल्हार सावन की लगा है आज फ़ागुन में

Comments

रंजू said…
रँगा है रंग होली के भ्रमित सा हो गया मौसम
घुली मल्हार सावन की लगा है आज फ़ागुन में

राकेश जी होली की बधाई ..बहुत ही सुंदर रचना लगी आपकी यह ..होली के रंग सी :)
बढिया है , आपको होली की कोटिश: बधाईयाँ !

Popular posts from this blog

अकेले उतने हैं हम

तुम ने मुझे पुकारा प्रियतम

बहुत दिनों के बाद