Wednesday, December 27, 2006

बात इक रात की

थी धुंधलके मे रजनी नहाये हुए
चांदनी चांद से गिर के मुरझाई सी
आंख मलती हुई तारकों की किरण
ले रही टूटती एक अँगड़ाई सी

कक्ष का बुझ रहा दीप लिखता रहा
सांझ से जो शुरू थी कहानी हुई
लड़खड़ाते कदम से चले जा रही
लटकी दीवार पर की घड़ी की सुई
फ़र्श पर थी बिछी फूल की पाँखुरी
एड़ियों के तले बोझ से पिस रही
टूटती सांस की डोरियां थाम कर
खुश्बुओं से हवाओं का तन रंग रही

और खिड़की के पल्ले को थामे खड़ी
एक प्रतिमा किसी अस्त जुन्हाई की

शून्य जैसे टपकता हुआ मौन से
्होके निस्तब्ध था हाथ बाँधे खड़ा
गुनगुनता रहा एक चंचल निमिष
जो समय शिल्प ने था बरस भर गढ़ा
बिन्दु पर आ टिका सॄष्टि के, यष्टि के
पूर्ण अस्तित्व को था विदेही किये
देहरी पर प्रतीक्षा लिये ऊँघते
स्वप्न आँखों ने जो भी थे निष्कॄत किये

गंध पीती हुई मोतिये की कली
बज रही थी किसी एक शहनाई सी

डूबते राग में ऊबते चाँद को
क्या धरा क्या गगन सब नकारे हुए
एक अलसाई बासी थकन सेज पर
पांव थी बैठ, अपने पसारे हुए
रिक्तता जलकलश की रही पूछती
तॄप्ति का कोई सन्देश दे दे अधर
ताकता था दिया क्या हो अंतिम चरण
जो कहानी लिखी थी गई रात भर

भोर की इक किरन नीम की डाल पर
आके बैठी रही सिमटी सकुचाई सी

2 comments:

श्रीश । ई-पंडित said...

बड़ी गलत बात है जी, पहले तो कविता का 'टाइटल' दिखा कर बुला लिया और फिर कहानी भी पूरी नहीं सुनाई। :)

Udan Tashtari said...

भोर की इक किरन नीम की डाल पर
आके बैठी रही सिमटी सकुचाई सी

*********************

बस लिखते रहे बैठकर रात भर
वो चली भी गई तनिक गुस्साई सी.

(वो का तात्पर्य रात से है).... :)

पंडित जी सही कह रहे हैं, हम खुद उसी चक्कर में भागते हुये आये कि यह मान्यवर गीत सम्राट को क्या हुआ..कोई नाजुक कहानी सुनाई जा रही है...मगर बस, अब वापस जाते हैं. :)

:roll: